Best 8 Basic Steps Network Marketing Success Quotes In Hindi

Best 8 Basic Steps Network Marketing Success Quotes In Hindi

Best 8 Basic Steps Network Marketing Success Quotes In Hindi

 

Best 8 Basic Steps Network Marketing Success Quotes In Hindi
Best 8 Basic Steps Network Marketing Success Quotes In Hindi

#1 : ( Dream Goal ) सपने का निर्धारण 

Network Marketing Success Quotes In Hindi  सफलता का मतलब लक्ष्य को हासिल करना है । लक्ष्य निर्धारण के नियमित और व्यवस्थित अभ्यास की बदौलत ही हम गरीबी से अमीरी और कुठा से संतुष्टि तथा सफलता तक पहुँच सकते हैं । वैसे इस मामले में पहिए का दुबारा आविष्कार करने की क्या जरूरत है । लगभग सारे जबाव पहले से ही मौजूद है । जब हजारों लाखों लोगों के लिए इस सिद्धान्त ने काम किया है तो आपके लिए भी करेगा , व्यर्थ में चिंता क्यों करते हैं …. ? जिन लोगों की जिंदगी में खुद के लक्ष्य नहीं होते हैं वह हमेशा दूसरों के सपनों के लिए काम करते हैं । इसलिए जिदंगी में खुद का एक दमदार सपना और लक्ष्य जरूर होना चाहिए । बड़े सपने देखना एक खूबसूरत आदत है और सपने नहीं देखना सामाजिक बुराई है । किसी ने ठीक ही कहा है कि :

” सफलता उनको मिलती है जिनके सपनों में जान होती है । पंखों से कुछ नहीं होता है हौंसलों से उड़ान होती है ।। ”

फर्क इससे नहीं पडता आप कहां से आए हैं , फर्क तो इससे पड़ता है कि आपको जाना कहां !

मेरी पृष्ठभूमि नौकरी थी । जब मैं इस व्यवसाय से जुड़ा था तो मेरे अपलाइन फोन पर पूछते थे आपके अगले सप्ताह का टारगेट क्या है ? तो मुझे बहुत संकोच होता था कि अगले सप्ताह होने वाली सेल्स के बारे में कैसे बताऊँ ? भविष्यवक्ता तो हूँ नहीं कि भविष्य को देख लूँ और बता दूं ? फिर भी , क्योंकि मैं समर्पित था अपनी अपलाइन के प्रति मैं कुछ नहीं बोलता था और तुरंत आइडिया लगाकर पिछले सप्ताह के सेल्स में जोड़कर बता देता था। अनाडी क्या करता है केवल गेंद फेंकता रहता है और उसको कुछ भी नहीं मिलता है । लेकिन खिलाडी पहले लक्ष्य निर्धारित करता है और फिर गेंद फेंकता है । उसको मान व सम्मान , धन , शोहरत सब मिलता है । वैसे लोग लक्ष्य क्यों नहीं बनाते हैं अब समझ आया । मुख्य कारण है :

1. वे लक्ष्यों को महत्वपूर्ण नहीं मानते क्योंकि ऐसे माहौल में पले – बड़े हैं जहाँ किसी के पास लक्ष्य नहीं रहे हैं । इसलिए वयस्क होने के बाद लक्ष्यों की शक्ति से अंजान रह जाते हैं ।

2. उनको मालूम ही नहीं लक्ष्य कैसे तय करते हैं ?

3. वे असफलता से डरते हैं ।

4. उन्हें अस्वीकृति का डर होता है । अगर सफल नहीं हुए तो लोग आलोचना करेंगे या हंसी उडायेंगे । आप अपने लक्ष्य बनाकर ( 3 % ) लोगों में शामिल हो सकते हैं ।

Network Marketing Success quotes In Hindi मार्क मैककॉरमैक ने अपनी पुस्तक ( व्हाट दे डोन्ट टीच यू इन हावर्ड बिजनेस स्कूल ) में , 1979 और 1989 के बीच हार्वड स्कूल में हुए अध्ययन के बारे में बताया है । 1979 में हार्वर्ड के एमबीए ग्रेजुएट्स से पूछा गया , क्या आपने अपने भविष्य के लिए स्पष्ट लिखित लक्ष्य तय किए हैं और उन्हें हासिल करने की योजना बनाई है ? पता चला कि सिर्फ 3 % ग्रेजुएट्स के पास लिखित लक्ष्य और योजना थी । 13 % के पास लक्ष्य तो थे पर उन्होंने लिखे नहीं थे । 84 % के पास स्पष्ट लक्ष्य नहीं थे , सिवाय इसके वे बिजनेस स्कूल में जाने के बाद गर्मियों का आनन्द लें । दस साल बाद 1989 में शोधकर्ताओं ने उस क्लास के सदस्यों से दोबारा संपर्क किया । उन्होंने पाया कि जिन 13 प्रतिशत के पास अलिखित लक्ष्य थे , वे लक्ष्य न बनाने वाले 84 % विद्यार्थियों से औसतन दो गुना ज्यादा कमा रहे थे । लेकिन उनमें , सबसे आश्चर्यजनक बात तो यह थी कि हार्वर्ड छोडते वक्त जिन ग्रेजुएट्स के पास स्पष्ट , लिखित लक्ष्य थे , वे बाकी सभी 97 % से औसतन 10 % गुना ज्यादा कमाई कर रहे थे । इन लोगों के मामले में इकलौता फर्क स्पष्ट लक्ष्यों का था , जो उन्होंने पढाई पूरी करते वक्त बनाया था । अबअफैसला आपका है कि आप अपने लक्ष्य बनाना चाहोगे या एक आम जिन्दगी बिताना चाहेंगे । लेकिन स्पष्ट लक्ष्य कैसे बनाने हैं ये हम कहाँ से सीख सकते हैं ? 

लक्ष्य निर्धारण के लिए कुछ गाइडलाइन लक्ष्य SMART होने चाहिए Network Marketing Success quotes In Hindi।

Specific ( निश्चित )

Measurable ( मापांकन योग्य )

Achievable ( प्राप्ति योग्य )

Realistic ( वास्तविक )

Time Bound ( समय निर्धारित )

© लक्ष्य लिखे हुए होने चाहिए ।

© आपके लक्ष्य हमेशा आपके सामने होने चाहिए । ( फ्रिज , दीवार , शीशे पर तस्वीरों के रूप में इत्यादि )

© अपने लक्ष्य को रिवाइज करें और जरूरत समझें तो नए लक्ष्य बनाएं ।

© अपने सपनों ( लक्ष्यों ) को सदैव परिवार – दोस्तों के साथ शेयर करें ।

© जब भी आप कोई लक्ष्य पूरा करें , अपने आपको ईनाम दें ।

© समकालीन इनाम वह चीज है जो आप चाहते हैं अगले 3 से 6 महीने में ।

© मध्यकालीन ईनाम वह चीजें हैं जिन्हें आप चाहते हैं अगले 1 से 2 सालों में ।

© दीर्घकालीन ईनाम वह चीजें हैं जिन्हें आप चाहते हैं अगले 2 से 5 सालों में ।

” निर्धारित लक्ष्य के अभाव में व्यक्ति घड़ी के पेंडुलम की तरह होता है । जो हिलता तो है मगर जाता कहीं नहीं । इसी प्रकार लक्ष्य विहीन व्यक्ति करता तो बहुत कुछ है मगर पाता कुछ भी नहीं । “

 #2 : ( List Making ) नामों की सूची तैयार करना Network Marketing quotes Success In Hindi

                बड़े स्तर पर बिजनेस करने के लिए आपको अधिक से अधिक लोगों को अपना प्लान दिखाना होगा । बडे पैमाने पर बिजनेस खड़ा करने के लिए लगातार लोगों को अपना मार्केटिंग प्लान दिखाना पड़ेगा । इस कदम को पूरा करने के लिए आपको अपने परिचितों के नामों की एक सूची बनानी है । उन लोगों की भी सूची बनायें जिन्हें पहले कभी अतीत में जानते थे , इसे इनीशियल सूची कहते हैं ।

Network Marketing Success quotes In Hindi  शुरू करने वाले कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जिन्हें शुरू – शुरू में अपने लोगों की सूची बनाने में काफी हिचकिचाहट महसूस होती है , लेकिन यह गलत बात है । एक कागज पर लोगों के नाम और फोन नंबर लिखने में डर किस बात का ? कुछ लोग सोचते हैं कि उनकी तो पूरी सूची उनके दिमाग में ही है , उनके पते डायरी में तो लिखे ही हैं , लेकिन वह वास्तविक सूची नहीं होती ।

अगर आपको बिजनेस शुरू करना है और आगे बढना है तो आपको इसके लिए टाइम देना पडेगा और अपनी तमाम हिचकिचाहट तथा डर को दूर फेंक कर नामों की एक सूची तैयार करनी होगी । आपको सहायता के लिए अपने स्पाइंसर तथा अपलाइन से संपर्क करना होगा , वे आपकी सहायता करेंगे । अगले कुछ पेजों में आपको लिस्ट तैयार करने तथा लोगों के सामने अपना प्लान दिखाने के बारे में सुझाव दिए गए हैं ।

आप कहीं ज्यादा लोगों को जानते हैं , जितना कि आप सोचते हैं । आप जिन्हें जानते हैं और जिन लोगों के नामों की सूची आपने बना रखी है उनसे आप अपने कीमती समय में से कुछ समय निकाल कर , मिलते रहिए । इस तरह वे आपके दिमाग में तो बने ही रहेंगे , उनसे जुड़े दूसरे लोगों के साथ भी आपका संपर्क बढ़ेगा ।

 लिस्ट क्यों बनाएं Network Marketing Success quotes In Hindi :

  • 1. किसी भी व्यवसाय में उत्पादन हेतु जिस प्रकार कच्चा माल आवश्यक होता है उसी प्रकार हमारे व्यवसाय में लिस्ट कच्चे माल के रूप में कार्य करती है ।
  • 2. लिस्ट का साइज हमारे व्यवसाय की प्रारंभिक सफलता भी दर्शाता है ।
  • 3. बडी लिस्ट बड़ी सफलता की सूचक होती है ।
  • 4. जितने बडे हमारे लक्ष्य हैं लिस्ट भी उतनी ही बडी होनी चाहिए ।

#3 : ( Contracting & Invititation ) सम्पर्क करना तथा आमंत्रित करना

© जब भी किसी प्रॉस्पेक्ट को उसके या अपने घर , मेल मिलाप ( गेट टू गेदर ) के लिए आमंत्रित करें तो जितना जल्दी हो सके समय तय कर लें , नहीं तो आपके अलावा कोई और उसे आमंत्रित कर लेगा ।Network Marketing quotes इसके लिए आप ओपन मीटिंग , टीम मीटिंग , सेमीनार तथा रैली कहीं भी बुला सकते हैं । ये मीटिंग वैसे तो फॉलोअप मीटिंग के लिए भी होती है लेकिन आप इसके साथ – साथ प्राइवेट मीटिंग भी तय करें । अगर आप किसी कारण से नहीं भी आ पाते हैं तो आप उनसे फोन पर संपर्क बनाए रखिए ।

© आमंत्रण सदैव घर पर जाकर करें तथा कम समय लें । प्रयास करें कि आमंत्रण कभी भी अकेले जाकर न करें । साथ में अपलाइन को ले जाएं और प्रदर्शित करें कि आप व्यस्त हैं अत : रूक नहीं सकते । 

© प्रॉस्पेक्ट को बार – बार आने के लिए न कहें । सदैव आमंत्रण के पूर्व उससे यह पूछ लें कि वह मीटिंग के दिन व समय व्यस्त तो नहीं है ।

© आमंत्रित करने से पूर्व प्रॉस्पेक्ट की आवश्यकता पहचान लीजिए कि वह या उसके बच्चे कम्प्यूटर शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं या वह या उसका परिवार किसी दुर्घटना या बीमारी से गुजर चुका है या गुजर रहा है या घर के सामानों का नुकसान उठा चुका है या किसी अच्छे निवेश की तलाश कर रहा है या टैक्स बचत के विषय में विचार कर रहा है या वह स्वयं या उसके परिवार का कोई सदस्य रोजगार की तलाश में है ।

© आमंत्रण सदैव अपनी लिस्ट के समुचित अध्ययन के बाद चुने हुए व्यक्तियों को करें । आमंत्रण देते समय कभी यह ना पूछे कि ‘ आप आ रहे हैं क्या ? या आप आयेंगे क्या ? या कभी भी निवेदन के रूप में आमंत्रण न करें । याद रखें कि यह एक व्यावसायिक प्रपोजल है , अत : बराबर व्यवहार करें ।

© आमंत्रण हमेशा आमंत्रण पत्र के माध्यम से करें । मीटिंग के दिन सुबह 8:30 बजे से 9:00 बजे के बीच उसे मीटिंग के लिए ( रिमांइड ) याद कराना ना भूलें , उसे एक जरूरी मीटिंग में आना है । किंतु ( रिमांइड ) याद केवल एक बार कराएं बार – बार नहीं ।

अगर आपको संपर्क करते समय खुद विश्वास नहीं है तो हमारी सलाह है कि आप शुरूआत में अपनी अपलाइन या स्पाइंसर की मदद लेकर अपने प्रॉस्पेक्ट को आमंत्रित कीजिए और उन्हें देखकर जल्दी से इस काम को सीख लीजिए । हम हर सप्ताह वीकली ओरिन्टेशन ( शुक्रवार ट्रेनिंग ) में जाकर बढिया सीख सकते हैं । याद रखिए आप अपनी सूची में शामिल लोगों को आमंत्रित नहीं करेंगे तब आज नहीं तो कल , कोई और उन्हें आमंत्रित कर लेगा ।

आप मीटिंग में जितने लोगों को देखना चाहते हैं , उससे चार गुना ज्यादा लोगों को आमंत्रित कीजिए , आंकडे बताते हैं कि आप जितने लोगों को आमंत्रित करते हैं , उनमें केवल आधे लोग ही आने के लिए हां कहते हैं , और उनमें से भी केवल आधे ही मीटिंग में आ पाते हैं । निमंत्रण करते समय ये जरूरी नहीं है आप क्या बोल रहे हैं , परंतु ये जरूरी है कि आप कैसे बोल रहे हैं , इसलिए आप अपना निमंत्रण वजनदार शब्दों में दें ।

अगर आमने – सामने हो तो हमें इन्वीटेशन कार्ड देकर ही निमंत्रण देना ज्यादा अच्छा रहता है । इसलिए इन्वीटेशन कार्ड का प्रयोग करने की कोशिश करें । क्या करें ( Do’s ) आमंत्रित करते समय क्या करें और क्या न करें ?

© अपनी बात तुरंत कह दीजिए । ( बस चंद मिनटों में )

© उत्साहित रहिए । आप देने वाले हैं और देने वाला हमेशा बड़ा होता है ।

© उन्हें बताइए कि आप बिजनेस को आगे बढ़ा रहे हैं ।

© सवाल का जबाव , सवाल पूछकर दीजिए । 

© पति – पत्नी दोनों को साथ में आने का निमंत्रण दीजिए । 

© आप अपने प्रॉस्पेक्ट को स्पष्ट बता दीजिए , कि कोई जोर जबर्दस्ती की बात नहीं है , उन्हें मीटिंग में केवल जानकारी पाने के लिए ही बुलाया जा रहा है । 

#4 : ( Show The Plan ) प्रेझेन्टेशन दिरवाना

                  इस बिजनेस को करने के लिए लोगों को बिजनेस प्लान दिखाना एक बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है । क्योंकि प्रेजेन्टेशन दिखाने से ही परिणाम आते हैं , टीम बनती और टीम के लोग भी उसी काम को आगे करते हैं तो एक बडा नेटवर्क बनता है । जो भी लोग सफल होते हैं ये बहुत सारे लोगों को प्रेजेन्टेशन दिखाते हैं और जो लोग सफल नहीं होते हैं वे प्लान नहीं दिखाते हैं ।

प्रेझेन्टेशन दिखाने के तरीके Network Marketing quotes In Hindi

1 . वन ऑन वन मीटिंग ( One on one Meeting ) यह किसी एक व्यक्ति या दंपति के साथ की जाने वाली मीटिंग होती है , इससे निश्चित जगह और समय पर , जो कि आपका घर जा सकता है , आपके प्रॉस्पेक्ट का घर या कोई ऐसी जगह जहाँ आप दोनों के लिए सुविधा हो । इस तरह की आमने – सामने होने वाली मीटिंग में , जब तक आप प्रेजेन्टेशन दिखाना सीख नहीं लेते , तब तक आपके स्पॉन्सर या अपलाइन आपके लिए प्रेजेन्टेशन दिखाना सीखना चाहिए , यही काम बाद में आपको लगातार अपने लिए और अपनी डाउनलाइन के लिए करते रहना है , क्योंकि एक काम आपके नेटवर्क को बढाने का सबसे बडा साधन और आपको सफलता के शिखर तक ले जाने वाला है । इसके लिए मात्र 45 मिनट या 1 घंटे का समय लेना चाहिए ।

स्टेप बाई स्टेप प्रेजेन्टेशन कैसे देना है इसका एक नमूना अपने सीनियर से सीखें ।

2 . हॉल मीटिंग ( Venue Meeting ) यह बहुत बड़ा बिजनेस करने का सबसे सफल और स्मार्ट तरीका है इसमें प्रॉस्पेक्ट के बड़े समूह को एक साथ एक बड़े हॉल में आमंत्रित करके , व्यावसायिक तरीके से मार्केटिंग प्रेजेन्टेशन दिखाया जाता है । यह किसी होटल , बडे सभागृह में निश्चित साप्ताहिक दिन में आयोजित की जाती है , इस मीटिंग में सभी एसोसिएट , खुले मन से भाग ले सकते हैं । इसमें आप अपने नए प्रॉस्पेक्ट को पहली बार प्रेजेन्टेशन दिखाने के लिए भी आमंत्रित कर सकते है

प्रेसेन्टेशन दिखाते समय कुछ ध्यान देने वाली बातें Network Marketing quotes In Hindi

1. प्रॉस्पेक्ट की भलाई के लिए मन में प्रार्थना करने के बाद ही प्लान शुरू कीजिए ।

2. आप प्लान वेन्यू पर बिजनेस ड्रेस कोड में रहें ।

3. आप प्रेजेन्टेशन वेन्यू पर समय से 40 मिनट पहले पहुंच जाएं और प्रॉस्पेक्ट को भी 30 मिनट पहले आने के लिए आग्रह करें ।

4. पति – पत्नी दोनों को एक साथ मीटिंग में बुलाएं । विद्यार्थी हो तो उसकी माताजी या पिताजी को बुलाएं ।

5. हॉल मीटिंग के लिए एक या दो दिन पहले आमंत्रित करें । ज्यादा पहले नहीं , अन्यथा लोग भूल सकते हैं ।

6. सभागृह या मीटिंग हॉल के बाहर खडे होकर , अपने मेहमान के लिए कभी भी इंतजार ना करें । यह कोई व्यावसायिक तरीका नहीं माना जाता इससे लगता है कि आपको उनकी बहुत जरूरत है ।

7. अपने प्रॉस्पेक्ट को सामने वाली लाइन में बैठाकर स्वयं भी उनके साथ बैठ जाइए ।

8. प्रेजेन्टेशन के दौरान मीटिंग में हिस्सेदारी के लिए दिल खोलकर ताली बजाइए ।

9. मीटिंग पूरी होने पर सकारात्मक सवाल पूछिए और उनको साईनअप करवाईए ।

#5 : ( Follow Up ) फॉलोअप करना

● फॉलोअप प्रेजेन्टेशन के दौरान ही शुरू हो जाता हैं जब प्लान दिखाते समय वक्ता ( स्पीकर ) आपको अतिथि / मेहमान के साथ आगे किस तरह पेश आना चाहिए उसके सुझाव देता है । इन सुझावों में यह भी होता है कि जो प्लान देख रहे हैं वह अपने न्यौता देने वाले व्यक्ति के साथ जल्दी मिले और दोबारा प्लान देखने के लिए फिर से आएं ।

फॉलोअप में या प्रेजेन्टेशन के पश्चात् प्रॉस्पेक्ट से सदैव ( क्लोज ) बंधे सवाल करें । जैसे

1. आपको क्या पसंद आया प्रॉडक्ट या विजनेस ?

2. हम आपसे मिलने आज शाम आएं या कल शाम आएं ?

3. फॉर्म आज भरेंगे या कल भरेंगे ?

4.पैसा आप नगद देंगे या डीडी के माध्यम से देंगे या चैक के माध्यम से देंगे ।

● फॉलोअप के दौरान अपने सीनियर की बातों को ना काटें और न ही उनके द्वारा कही बातों को अपने अंदाज में समझाने का प्रयास करें ।

● किसी भी प्रॉस्पेक्ट को यह न कहें कि , सीनियर यह तो बताना ही भूल गए जो मैं आपको बता रहा हूं ।

● हमेशा आपको चाहिए कि अपने प्रॉस्पेक्ट को स्पांसर अथवा अपलाइन से मिलवाएं और उनसे पूछे कि अब प्रॉस्पेक्ट को आगे क्या करना चाहिए । हमेशा स्पीकर से मिलवाने के बाद और चलने से पहले अपने अतिथि / मेहमान ( प्रॉस्पेक्ट ) से अगले फॉलोअप मुलाकात को निश्चित कर लेना चाहिए ।

● मुलाकात निश्चित हो जाने के बाद आप अतिथि / मेहमान को वाचन / शिक्षा सामग्री ( लिटरेचर पैक ) जरूर दें और उनसे कहें कि अगली मीटिंग तक इसे जरूर पढ लें । यहां तक कि आप उन्हें अभी से नामों की लिस्ट बनाने की सलाह भी दे सकते हैं । आप उन्हें यह भी कहें कि लिटरेचर पैक पढकर खत्म कर लेने के बजाय बाद जब अगली मीटिंग के लिए आएं तो उसे साथ लेते आएं ।

मुलाकात का समय सुनिश्चित करें । आप उन्हें बताएं कि आपका समय कितना कीमती है । आप उन्हें यह बताना न भूलें कि अगर भरोसेमंद आदमियों की ही सहायता करते हैं । आप उन्हें यह भी बताएं कि अगर कोई रूकावट आ जाए तो न आने की सूचना जरूर दे दें । 

फॉलोअप अपाइंटमेंट के विकल्प Network Marketing quotes :

  • प्राइवेट अपाइंटमेंट के लिए उनका घर
  • ओपन मीटिंग में
  • प्राइवेट अपाइंटमेंट के लिए आपका घर
  • टीम मीटिंग में
  • दूसरों के घर में होने वाली मीटिंग में ।
  • सेमीनार या रैली में ।
  • प्रॉडक्ट अथवा सिस्टम मीटिंग में ।

#6 : ( 100% User ) 100 % युजर बनें

1  कम्पनी की बेवसाइट का नियमित उपयोग करें जिससे उत्पादों की जानकारी बढती रहे ।

2 अपने नेटवर्क का समय अंतराल पर अध्ययन करें तथा कमजोर एसोसिएट से मुलाकात कर उसकी समस्याओं का समाधान करें ।

3 अपने उत्पादों की खूबियों तथा उनके अच्छे पहलूओं पर सदैव चर्चा करते रहें ।

4 कम्पनी की उपलब्धियों तथा भविष्य की चर्चा करते रहें

5 नेटवर्क की उपलब्धियों की चर्चा करते रहें तथा जानकारी रखें । 

#7 : ( Be a Team Player ) टीम प्लेटार बनें

1  अपनी टीम के साथ सामंजस्य बनाकर रखें ।

2 अपनी अपलाइन से निरंतर संपर्क बनाकर रखें ।

3 अपनी डाउनलाइन से चर्चा करते रहें तथा उसकी समस्याओं को जानकर उनका समाधान करने का प्रयास करें ।

4 अपनी टीम के नियमो का कठोरता से पालन करें । 

 NO CROSS LINING : दूसरे प्रॉस्पेक्ट पर अपना हक न जताना

जब कभी इकट्ठा पेजेन्टेशन होता है तो हो सकता है कि कोई दूसरे एसोसिएट हमारे किसी परिचित को प्लान दिखाने के लिए पहले आमंत्रित किया हो । और हम उसे वेन्यु में देख ले तो एकदम ऐसा लगता है कि हमारे साथ गलत हो रहा है जो हमारा परिचित है उसे दूसरा एसोसिएट कैसे बुला सकता है । उस आमत्रित को तो हमारे नीचे आना चाहिए , ऐसा सोचना सिस्टम और बिजनेस सिद्धान्त के विरूद्ध है । इसीलिए तो आपसे कहा जाता है कि एक बडी सी लिस्ट बनाकर उस आधार पर लिस्ट में लिखें सभी नामों से संपर्क कर उन्हें प्लान दिखा दें ।

COUNSELLING : सफल अपलाइन के सहयोग से समस्याओं का समाधान

काउंसलिंग का मतलब है हम अकेले में किसी सफल अपलाइन से बिजनेस में आने वाली समस्याओं का सकारात्मक हल पाने के लिए विचार – विमर्श करें । जैसे जैसे गुप का साइज बढता है , संगठन को मजबूत बनाए रखने की कवायद भी शुरू हो जाती है । क्योंकि गुप बढता है तो नए – नए दृष्टिकोण के लोग जुड़ते जाते हैं , सबके व्यक्तित्व अलग – अलग होते हैं । ऐसे में सीमित ज्ञान और कम अनुभव की वजह से संगठन को संगठित रख पाना मुश्किल लगता है । इसीलिए अपलाइन की सलाह मायने रखती है क्योंकि वे पहले ही इस समस्या से गुजर चुके हैं , इसीलिए समस्या का समाधान उनके पास मौजूद होता है । अपलाइन बेहतर जानते हैं कि कब , कहां , कैसे और क्यों काम करना है । इसीलिए कम से कम डायमण्ड बनने तक हर 15 दिन में अपने अपलाइन से सलाह मशविरा अवश्य करें । Network Marketing quotes In Hindi

EDIFICATION : सिस्टम , अपलाइन व डाउनलाइनका सम्मान पूर्वक परिचय देना

सिस्टम की भाषा में ऐडिफिकेशन का अर्थ है , अपने सिस्टम का अपलाइन व डाउनलाइन का सम्मान पूर्वक परिचय देना । एडिफिकेशन से बिजनेस में चार चांद लग जाते हैं , मगर शर्त है कि सही तरीके से ऐडिफिकेशन करना चाहिए । इसीलिए एफिफिकेशन का तरीका सीखना चाहिए । जिससे बेहतरीन बिजनेस हो सके ।

एडीफिकेशन हमेशा परफेक्ट होना चाहिए , ना कि दिखावा , ना चंद समय के लिए । दूसरी बात हमें कभी भी सिस्टम , अपलाइन या डाउनलाइन से ज्यादा अहमियत प्रॉस्पेक्ट को नहीं देनी चाहिए । उदाहरण के लिए आप किसी डॉक्टर साहब से यह कहकर भेंट करवाते हैं कि सर यह है डा . ए या बी , डॉक्टर हैं और इनकी प्रेक्टिस शहर में सबसे अच्छी चला करती है , यह अगर हमारे बिजनेस से जुड़ गए तो हमारा बिजनेस बहुत तरक्की करेगा ।

Network Marketing quotes In Hindi सर , डॉक्टर साहब इतने बिजी रहते हैं कि क्या बताऊं , वो तो मैंने बहुत प्रार्थना की तब आए हैं । इस उदाहरण के अनुसार डॉक्टर साहब एक अतिविशिष्ट व्यक्ति हो गए , यहाँ तक कि इस तरह की वार्तालाप से डॉक्टर साहब का कद , बिजनेस और अपलाइन से भी ऊंचा हो गया । इस स्थिति में क्या प्रॉस्पेक्ट डा . साहब अपलाइन की बात सुनेंगे , नहीं । क्योंकि इस उदाहरण में एसोसिएट ने डा साहब की इतनी महिमा मंडित कर दी की अब वे खुद को महान समझने लगे हैं । ऐसी स्थिति में वे कभी भी सिस्टम और बिजनेस को गंभीरता से नहीं लेंगे ।

इस तरह आप खुद के साथ – साथ प्रॉस्पेक्ट का भी नुकसान कर बैठेंगे , लेकिन तरीका दिया जाए तो सोने पे सुहागा । मसलन , आपने अपने प्रॉस्पेक्ट ( डा . साहब ) को यह कहकर मिलवाते हैं ” डा . साहब यह है हमारे अपलाइन लीडर , आपके साथ एक्स या वाय हजार या लाख लोग जुडकर सम्मान से काम कर रहे हैं । आप सफल वक्ता और कामयाब लीडर हैं , बहुत व्यस्तता के बाद भी जब आपके बारे में सुना तो सहर्ष मिलने के लिए तैयार हो गए । अब यकीनी तौर पर डा . साहब अपलाइन को पूरी गंभीरता से सुनेंगे ।

ऐसा नहीं कि सिर्फ अपलाइन का एडिफिकेशन होना चाहिए , बल्कि अपलाइन भी अपनी डाउनलाइन का एडिफिकेशन करें जैसे ” डा . साहब आप बिल्कुल सही माध्यम से यहाँ तक पहुंचे हैं । हमारे सर बड़े कमिटेड और सफल लीडर हैं । आप इस बिजनेस से जुडकर अप्रत्याशित तरक्की करेंगे , यकीन मानें और यही भाषा प्रॉस्पेक्ट के दिल में जरूर असर डालेगी ।

#8 : ( Tap , Audio , Video , Book & Function )टेप , किताबें , फोल्डर तथा लिटरेचर ( Network Marketing quotes In Hindi )

1. अपनी अपलाइन के टेप सुनें ।

2. मनोबल तथा नेतृत्व के गुण बढाने वाली निम्न किताबें पढें : -जीत आपकी , बड़ी सोच का बडा जादू , रिच डैड , खुदी को कर बुलंद इतना , बिजनेस स्कूल , मेरा चीज किसने हटाया , द वन मिनिट मैनेजर इत्यादि ।

3. कम्पनी का फोल्डर अपने पास रखें तथा नया फोल्डर आने पर जरूर खरीदें ।

4. कम्पनी के संबंध में उपलब्ध लिटरचेर खरीदें व अध्ययन करें ।

TAPE ( AUDIO / VIDEO )

हमें गंभीरता से सभी लीडर्स के मोटिवेशनल व शिक्षाप्रद ऑडियो / वीडियो सुनना – देखना निहायत जरूरी है , इससे हमें हमारे लीडर्स की संघर्षमय जीवन को सुखमय जीवन में बदलने के गुण विकसित होते हैं । हमें अपने लीडर्स की गुजरी लाइफ से मुश्किलों से हौंसलों के साथ लडने की शक्ति भी मिलती और उनकी वर्तमान जिंदगी से हम आगे बढ़ने की प्रेरणा पाते हैं । इन माध्यमों से हम बिजनेस करने के गुण विकसित करते हैं । इन ऑडियो – वीडियो में जिन लीडर्स का समावेश हुआ है वे कभी अति साधारण जिंदगी जी रहे थे , मगर आज वे वक्त के सिकंदर है जिससे साबित होता है कि यहाँ हर बैकग्राउंड के लोग सफल हो सकते हैं ।

BOOKS ( पुस्तक )

इस बिजनेस में हमे लीडर बनना पडता है , इस हेतु सतत् अध्ययन करने वाला Reader अर्थात् पढने वाला बनना जरूरी है । कहते हैं Leaders are reader and readers are leaders मतलब जो पढ़ते हैं वो लीडर है । हर किताब आपको कुछ न कुछ अवश्य सिखाती है , सकारात्मकता से भरपूर किताबें पढने से बौद्धिक स्तर पुख्ता होता है । शुद्ध संकलन बढता है , भाषा प्रभावी बनती है । हम भविष्य में वही बनते हैं जैसा हम पढते है । यदि हम प्रतिदिन सिर्फ 20 मिनट किसी अच्छी किताब को पढ़ते हैं तो 1 महीने में एक , 1 साल में 12 तथा 10 साल में 120 किताबें पढ सकते हैं । है ना कमाल धीरूभाई अंबानी कहते थे , ” किसी भी बिजनेस में सफल होने के लिए ज्यादा पढ़ा – लिखा होने की जरूरत नहीं है लेकिन पढते – लिखते रहने की जरूरत है । “

                               किताब खरीदने से कोई गरीब नहीं होता , बल्कि वैचारिक स्तर पर अमीर होते हैं । यही सकारात्मक वैचारिक क्रान्ति जीवन की दिशा और दशा में परिवर्तन लाती है । 

FUNCTION :

                            इस Network Marketing Success quotes In HIndi बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए सिस्टम द्वारा आयोजित कार्यक्रमों की सफल भूमिका होती है । हर कार्यक्रम पूरी तरह सकारात्मकता और व्यावसायिक प्रगति के भाव को पुख्ता करता है । लोगों ने डायमण्ड बनने का निर्णय इसी तरह के किसी प्रोग्राम में ही लिया था वे बने भी , हर एक एसोसिएट को अपने Network Marketing quotes In Hindi बिजनेस को सफलतापूर्वक बढाने के लिए सिस्टम द्वारा आयोजित इन कार्यक्रमों में बढ़ – चढ़कर हिस्सेदारी करना चाहिए । क्योंकि ऐसे कार्यक्रम मन – मस्तिष्क में सकारात्मक गहरा असर डालते हैं और यही असर प्रगति का प्रारम्भिक बिन्दु बनता है । .

 

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *